Here you will find best ayurved treatments and suplements for cure disease

Tuesday, 19 January 2016

बोर्नविटा होर्लिक्स बूस्ट का सच …


सचिन तेंदुलकर एक विज्ञापन करता है !
boost is secret of my energy
अगर सचिन तेंदुलकर की शक्ति boost है !
तो आप एक काम कीजिये ! सचिन तेंदुलकर की अम्मा को एक चिठी लिखिए !
क्या सचिन तेंदुलकर boost पीकर सचिन बना है ????!
हर साल इस देश के लोग 1500 करोड़ रूपये के विदेशी कंपनियो के health tonic खा जाते है !!
जिसमे हैल्थ के नाम पर कुछ भी नहीं है !
health tonic !
भारत की सबसे बड़ी लैब है ! delhi all india institute मे वहाँ के head है doctor जैन !उन्होने test करके बताया इन सब हैल्थ tonic मे क्या है !!
हमारे देश में हेल्थ टॉनिक के नाम पर कई विदेशी कंपनियाँ अपने उत्पाद बेचती हैं, जैसे होर्लिक्स, मालटोवा, बोर्नविटा, कॉम्प्लान,बूस्ट, प्रोटिनेक्स और खूबी की बात है कि इनमे हेल्थ के नाम पर कुछ भी नहीं है | कैसे ?
ये कंपनियाँ इन हेल्थ सप्लीमेंट में मिलाती क्या हैं वो भी आप जान लीजिये | मालटोवा, बोर्नविटा, कॉम्प्लान और बूस्ट बनता है मूंगफली की खली से | खली समझते हैं आप ? मूंगफली, सरसों, आदि का तेल निकालने के बाद जो उसका कचरा (waste)निकलता है, उसी को खली कहते है और आप गावों मे जाकर देखो तेल निकालने के बाद बची हुई इस खली को गाय, बैल,भैंस जैसे जानवरों को खिलाने के लिए प्रयोग किया जाता है |
ये मालटोवा, बोर्नविटा, कॉम्प्लान और बूस्ट इसी मूंगफली की खली से बनाया जाता है, जो खली हमारे देश में जानवरों को खिलाया जाता है वही इस देश में अपने को पढ़े-लिखे-ग्वार educated idiots बढ़े शौंक से खाते हैं !
बाजार में आप चले जाइये, ये मूंगफली की खली 20 -25 रूपये प्रति किलो के हिसाब से मिल जाएगी आपको | आप सौ डब्बे भी इन हेल्थ टोनिकों के खा लीजिये या अपने बच्चों को खिला दीजिये, कुछ नहीं होने वाला उससे | और इसके बदले आप सीधे मूंगफली/सिंघदाना दीजिये गुड के साथ तो जितना प्रोटीन इससे मिलता है, जितनी कार्बोहाईड्रेट इससे मिलती है, या और भी जितनी स्वास्थ्यवर्धक तत्व इससे मिलती है, उतना 100 पैकेट आप boost horlics खाने से भी नहीं मिल सकती |
ये अपने डब्बे पर लिखते है कि इससे विटामिन मिलता है, प्रोटीन मिलता है, कैल्सियम मिलता है, वगैरह वगैरह, लिखने में क्या जाता है ? किसी ने कभी टेस्ट कर के कोई समान ख़रीदा है क्या ? अरे मिटटी में भी 18 तरह के Micro Nutrients होते हैं तो क्या हम मिटटी खायेंगे ? ??
ऐसा ही एक और हेल्थ टॉनिक हैहॉर्लिक्सहॉर्लिक्स में क्या है ? हॉर्लिक्स में है गेंहूँ का आटा, चने का सत्तू, जौ का सत्तू | बिहार में हम लोग उसको कहते हैं सत्तू और अंग्रेजी में कहते हैंहॉर्लिक्स | आप किसी से पूछिये कि सत्तू खाओगे ? तो कहेगा किक्या फालतू की बात कर रहे हो और पूछेंगे कि हॉर्लिक्स खाओगे तो कहेगा -हाँ हाँ खायेंगे |
क्यूँ खाएँगे ???
क्योंकि अंग्रेजी का नाम है, और बड़ा भारी नाम है horlics | सुनने मे लगता है जैसे कुछ imported जैसी चीज है इसमे !! उस पर साफ़-साफ़ लिखा है “It’s malted ” और malted का मतलब ही होता है| जौ का सत्तू, चने का सत्तू !इसे बाजार से खरीद लीजिये 50 -60 रूपये किलो मिल जायेगा और और हॉर्लिक्स बिक रहा है 400 रूपये किलो के हिसाब से! अपना दिमाग तो हमने कभी प्रयोग नहीं करना ! बस जो tv मे दिखाया जाये उठा के उसे घर ले आओ बेशक वो कचरा ही क्यूँ बेचते हो !
टेनिस का एक खिलाड़ी है boris becker ! जब सर्विस करता है और गेंद को मारता है तो उसकी गेंद की रफ्तार होती है 160 किलो मीटर प्रति घंटा ! मतलब ट्रेन भी जिस रफ्तार से नहीं जाती ! उस रफ्तार से उसकी मारी हुई गेंद जाती है ! और आप देख लीजिये जब भी खेल 5-10 मिनट के किए रुकता है बैग मे से केला निकाल निकाल कर खाता रहता है !
तो boris becker को शक्ति मिलती है केला खाने से ! सचिन तेंदुलकर कहता है हमे शाकित मिलती है boost पीने से !
भारतीय बाजार में जितने हेल्थ टोनिक मिल रहे हैं उनसे एक पैसे का हेल्थ नहीं मिलता और भारत के लोग हर साल 1500 करोड़ का हेल्थ टोनिक खरीद कर पैसा विदेश भेज रहे हैं | सिर्फ mental satisfaction है कि हम बहुत बढ़िया चीज खा रहे है और अपने बच्चो को खिला रहे हैं और कुछ नहीं ?
हमारे देश के लोग अजीब किस्म के निराशावाद में जी रहे है | ये इग्नोरेंस अनपढ़ लोगों में होता तो मुझे समझ में भी आता लेकिन भारत के पढ़े लिखे लोगों में ये सबसे ज्यादा है |

Recent Posts

loading...
HI
This site has build for awareness purpose.
visit daily to grow your knowledge.